Saturday, September 14, 2019

बचपन



                                           

                                     

                      ⤊ बचपन⤊🌈


बचपन है एक गीली मिट्टी पुनःनही मिलने पायेगा

जैसे ढालोगे इसे वेसे यह बन जायगा,

यह नन्हे सितारे हे आसमान के,जिनसे यह सारा जहाँ जगमगाएगा

बचपन है एक गीली मिट्टी पुनःनही मिलने पायेगा||



यह फूल है बगिया के, नही मुर्झाने दो,

थोड़ी सी इन्हें छांव मिले तो, यह पतझड़ को बसंत बनाएगा |

इन्हे बता दो सही राह तुम यह मंजिल खुद पा जायेगा

बचपन है एक गीली मिट्टी पुनःनही मिलने पायेगा||



उड़ने दो इन्हे खुले दिल से ये हवा को पँख बनाएगा

जीवन के इस भव सागर में यह नहीं घबराएगा |

बढ़ने दो खुल के इन्हे, यह खुशियां आपार लाएगा

बचपन है एक गीली मिट्टी पुनःनही मिलने पायेगा||

👶👶👶
                                                                                           
⤭जितेन्द्र राठौर ⤪

Other post/अन्य पोस्ट

                        

                                                                                           



बचपन पर हिंदी कविता, बाल कविता, Hindi Poem on Childhood, Bachpan ki kavita | kids’ poem | Hindi poems for kids










32 comments:

  1. Replies
    1. बहुत ही सुंदर अप्रतिम रचना
      लाजवाब

      Delete
  2. Bhai bahut shandaar...😊😊

    ReplyDelete
  3. Deep and lovely poem. I really liked this one. Your words are beautiful.👍

    ReplyDelete
  4. Bhai tune toh bachpana Yaad dila diya.... Dil se likhi is poem ne Mera dil jeet liya bhai. Aise hi likhne rho bhai...

    ReplyDelete
  5. Bhai tune toh bachpana Yaad dila diya.... Dil se likhi is poem ne Mera dil jeet liya bhai. Aise hi likhne rho bhai...

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा लिखा है भाई��

    ReplyDelete
  7. बचपन में पहुचा दिया भाइ☺️

    ReplyDelete

दीपदान ( "आओ फिर दीपक जलाएं" )

                   🪔  दीपदान🪔                        "आओ फिर दीपक जलाएं" आओ फिर ; दीपक जलाएं , घने ...